अतिपिछड़ा की पहचान बने संतोष, RCP से ज्यादा संतोष महतो जिंदाबाद के नारे: सूत्र

0
160
Santosh Mahto Identity of EBC
Santosh Mahto Identity of EBC

विगत 14 जुलाई को जदयू द्वारा आयोजित अतिपिछड़ा सम्मलेन छपरा के तरैया के रामबाग मेले में मनाया गया। इस स्थान पर मना सम्मलेन महासम्मेलन साबित हुवा और काश ही इतना अतिपिछड़ा की ताकत का अंदाज अब तक जदयू को पुरे सूबे में देखने को मिला हो। Santosh Mahto Identity of EBC

अतिपिछड़ा की पहचान बने संतोष, RCP से ज्यादा संतोष महतो जिंदाबाद के नारे: सूत्र
अतिपिछड़ा की पहचान बने संतोष, RCP से ज्यादा संतोष महतो जिंदाबाद के नारे: सूत्र

इस आयोजन के सफलता के बाद अब संतोष महतो को टिकट न मिलना पार्टी नेतृत्व की कमी ही दर्शाएगी

संतोष महतो अब तक यहाँ से भावी प्रत्यासी के रूप में देखे जाते रहे हैं लेकिन इस आयोजन के सफलता के बाद अब उनको टिकट न मिलना पार्टी नेतृत्व की कमी ही दर्शाएगी। स्थानीय सूत्रों की माने तो संतोष महतो के समर्थन में लोग कड़ी धुप में भी पुरे विधानसभा में एकत्रित हुए और उन्होंने बताया की जहाँ अतिपिछड़ा का बेटा महतो खड़ा होगा वहां पूरा समुदाय जी जान से खड़ा मिलेगा।

अतिपिछड़ा की पहचान बने संतोष, RCP से ज्यादा संतोष महतो जिंदाबाद के नारे: सूत्र
अतिपिछड़ा की पहचान बने संतोष, RCP से ज्यादा संतोष महतो जिंदाबाद के नारे: सूत्र

तरैया की धरती पर ऐतहासिक रहा महासम्मेलन 

हजारों की संख्या में मना ये महासम्मेलन तरैया की धरती पर ऐतहासिक रहा और संतोष महतो जिंदाबाद के नारे से पूरा सभा गूंज उठा। श्री महतो अभी जदयू के अतिपिछड़ा के प्रदेश उपाध्यक्ष हैं लेकिन अभी से ही पुरे सारण के जदयू के अतिपिछड़ा के चेहरों में मुख्य रूप से ये देखे जा रहे हैं। जनता के समर्थन और विश्वास को जदयू के नेतृत्व नजरअंदाज कर कोई भूल नहीं करेगी।

अतिपिछड़ा की पहचान बने संतोष, RCP से ज्यादा संतोष महतो जिंदाबाद के नारे: सूत्र
अतिपिछड़ा की पहचान बने संतोष, RCP से ज्यादा संतोष महतो जिंदाबाद के नारे: सूत्र

कोई भी प्रत्यासी अतिपिछड़ा से नहीं रहा

बताते चले की अतिपिछड़ा बाहुल्य ये विधान सभा से आज तक कोई भी प्रत्यासी अतिपिछड़ा से नहीं रहा जिसको लेकर स्थानीय अतिपिछड़ा समाज जागरूक हुवा है और अपने राजनितिक हक़ के लिए राजनितिक चेतना जगी है। अब देखना ये है की पार्टी नेतृत्व इस पर क्या कदम उठाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here